• Article Image

    हापुड़ रोड पर युवक को बस ने रौंदा

    Posted by - Vijay Darpan Times


    -दो गाडिय़ों में तोडफ़ोड़ आगजनी का प्रयास, मीडियाकर्मियों के कैमरे तोड़े
    मेरठ । सिविल लाइन थाना क्षेत्र में शुक्रवार की दोपहर पंप से पेट्रोल डलवाकर निकले युवक की इनोवा से टक्कर के बाद पीछे से आ रही रोडवेज की बस ने रौंद डाला। हादसे से गुस्साए लोगों ने बस और इनोवा में जमकर तोडफ़ोड़ करते हुए आग लगाने का प्रयास किया और सड़क पर जाम लगा दिया। घटना की जानकारी के बाद मौके पर पहुंची कई थानों की फोर्स और एसपी सिटी सहित प्रशासनिक अधिकारियों के भीड़ को काबू करने में पसीने छूट गए। इस दौरान भीड़ ने सड़क चलते लोगों से मारपीट की और कवरेज कर रहे कई मीडियाकर्मियों से हाथापाई करते हुए उनके कैमरे तोड़ डाले। बाद में पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजते हुए समझा-बुझा कर लोगों को शांत किया। उपद्रव करने के आरोप में तीन व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है।
    गुदड़ी बाजार निवासी ओसामा (20) कपड़े की दुकान पर नौकरी करता था। शुक्रवार की दोपहर उसने हापुड़ रोड स्थित ईव्ज पेट्रोल पंप से अपनी एक्टिवा में पेट्रोल डलवाया और बेगमपुल की ओर जाने लगा। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार ओसामा पेट्रोल पंप से बाहर निकलकर सड़क पार कर रहा था एकाएक आगे चल रही इनोवा के चालक ने दरवाजा खोल दिया। दरवाजे से टकराकर ओसामा एक्टिवा सहित नीचे गिर गया, इसी बीच पीछे से तेज गति से आ रही जेएनयूआरएम की बस ने उसे रौंद दिया। हादसा होते ही मौके पर सैकड़ो लोगों की भीड़ लग गई। गुस्साए लोगों ने इनोवा और बस में तोडफ़ोड़ शुरू कर दी, जिस पर इनोवा सवार युवक औ बस की सवारियों में भगदड़ मच गई और सभी लोग मौके से भाग खड़े हुए। गुस्साई भीड़ ने बस और इनोवा में जमकर तोडफ़ोड़ करते हुए आग लगाने का प्रयास किया, लेकिन आग लगाने में कामयाब नहीं हो सके। जिसके बाद पब्लिक ने हापुड़ रोड पर जाम लगा दिया। इस दौरान निकलने का प्रयास करते वाहन चालकों के साथ बदसलूकी और मारपीट करते हुए भीड़ ने कई वाहनों में भी तोडफ़ोड़ कर डाली।
    मौके पर पहुंचे कई मीडियाकर्मियों के साथ हाथापाई करते हुए उनके कैमरे तोड़ डाले। घटना की जानकारी मिलने पर सिविल लाइन और कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची, लेकिन भीड़ के सामने बेबस नजर आई। हालात बिगड़ते देख लालकुर्ती और नौचंदी सहित शहर के कई थानों की फोर्स को मौके पर तलब कर लिया गया। एसपी सिटी आलोक प्रियदर्शी, सीओ कोतवाली रणविजय सिंह, एडीएम सिटी मुकेश कुमार, सिटी मजिस्ट्रेट अवधेश कुमार सहित कई आलाधिकारी मौके पर पहुंचे। उपद्रवी भीड़ अधिकारियों के सामने भी मनमानी करती रही, अधिकारी बार-बार चेतावनी देते रहे, लेकिन चेतावनी का असर न होते देख हल्का बल प्रयोग करते हुए पुलिस ने हंगामा कर रहे लोगों को खदेड़ दिया। इस दौरान तीन लोगों को हिरासत में लेते हुए मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। एसपी सिटी ने बताया कि दुर्घटना करने वाली बस संख्या यूपी-15-एटी-5838 को कब्जे में लेते हुए चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।
    वहीं उपद्रव में शामिल रहे करीब डेढ़ सौ अज्ञात व कुछ को नामजद करते हुए उनके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है। उपद्रव में शामिल किसी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा। उधर, हादसे की जानकारी मिलने के बाद मृतक के परिजनों में कोहराम मचा है।