• Article Image

    वर्दी की जगह मिलेगा नकद 10000 : राजनाथ सिंह

    Posted by - Vijay Darpan Times

    मेरठ, विजय दर्पण टाइम्स।
    शनिवार को आरएएफ-108 बटालियन के सिल्वर जुबली समारोह में सिरकत करने मेरठ पहुंचे केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि रैपिड एक्शन फोर्स के पांच और नई बटालियन का गठन होगा। यह नई बटालियन पहली जनवरी से काम करने लगेगी। केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि सांप्रदायिकता, जातिवाद और क्षेत्रवाद देश के विकास के लिए बाधक हैं।
    उन्होंने कहा कि कठिन परिस्थितियों में भी देश की सीमा और विभिन्न क्षेत्रों में सीमा सुरक्षा बल (सीआरपीएफ) और रैपिड एक्शन फोर्स के जवान काम करते हैं। उन्होंने कहा कि देश में आर्थिक प्रगति तभी होगी जब सांप्रदायिकता, क्षेत्रवाद, जातिवाद और अराजकता को समाप्त किया जाएगा। उन्होंने रैपिड एक्शन फोर्स के 5 और नई बटालियन गठित करने की घोषणा की। यह नई बटालियन 1 जनवरी से काम करने लगेगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में 2022 नए भारत के निर्माण का संकल्प लिया गया है। देश की सुरक्षा कानून व्यवस्था में जवानों को जान भी गंवानी पड़ती है, इसके लिए सरकार ने एक जनवरी 2016 से कम से कम एक करोड़ की आर्थिक सहायता की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि अब केंद्रीय सुरक्षा बलों को वर्दी की जगह प्रतिवर्ष 10000 रुपये नकद दिए जाएंगे। उन्होंने रैपिड एक्शन फोर्स के 25 साल पूरे होने पर बधाई दी और कहा कि जब भी देश के किसी भी भाग में जरूरत पड़ती है तो फोर्स सरकार को मदद करती है। हालात बिगडऩे की स्थिति में राज्य सरकार की मांग सबसे पहले रैपिड एक्शन फोर्स की होती है।
    बेरहम नहीं हो सकती पुलिस, सभ्य बनें और धैर्य रखें
    केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आज रेखांकित किया कि 21वीं सदी की पुलिस ''बेरहम नहीं हो सकती है, बल्कि उसे ''सभ्य बनना होगा और पुलिसकर्मियों से कहा कि दंगे और प्रदर्शनों जैसी चुनौतिपूर्ण हालात से निपटते वक्त वे धैर्य रखें। मंत्री ने केन्द्र और राज्य दोनों पुलिस बलों से अपील की कि प्रदर्शन या दंगे जैसी स्थिति में हंगामा करने वाली भीड़ को ''नियंत्रित करने और उनका ध्यान भटकाने के लिए समुचित नयी तकनीक और मनोवैज्ञानिक समाधान का प्रयोग करें। केन्द्रीय गृहमंत्री ने कहा, ''मैं समझ सकता हूं कि पुलिस बलों को कभी-कभी सख्ती बरतनी पड़ती है, लेकिन उन हालात में भी विवेक की जरूरत है।