• Article Image

    प्रमुख सचिव गृृह व डीजीपी ने की कावंड़ यात्रा के सम्बंध में कानून एवं शान्ति व्यवस्था की समीक्षा........ हैलीकाॅप्टर से शिवभक्त कावंड़ियों पर होगी पुष्प वर्षा: प्रमुख सचिव गृह

    Posted by - Vijay Darpan Times

    -ड्रोन, हैलीकाॅप्टर व सीसीटी कैमरों से होगी यात्रा की निगरानीः अरविन्द कुमार
    -सुरक्षा की होगी माकूल व्यवस्था, विभाग बनाये अपना कन्टीजेन्सी प्लानः डीजीपी
    -साॅफ्टवेयर बनाकर जियो मैपिंग से होगी यात्रा की निगरानीः आयुक्त मेरठ मण्डल
    मेरठ। मेरठ में कांवड़ यात्रा को लेकर शासन अत्यंत गंभीर है। सुरक्षा बंदोबस्त की व्यवस्था देखने तथा आवश्यक निर्देश देने आज प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार तथा डीजीपी ओपी सिंह ने अधिकारियों की मेरठ कमिश्नरी में बैठक ली।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर शुक्रवार को दोनों अधिकारियों ने सभी विभागों की अंतरराज्य बैठक की जिसमें उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश आदि राज्यों के पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी शामिल हुए। इस बैठक में स्वास्थ्य विभाग, बिजली विभाग, नगर निगम, चिकित्सा विभाग, खाद्य विभाग आदि के अधिकारी मौजूद रहे। प्रमुख सचिव गृह ने सभी को निर्देश दिया है कि कावड़ यात्रा में जिन लोगों की ड्यूटी लगाई गई है वह कावडियों के साथ बेहतर बर्ताव करें यदि किसी के बर्ताव में जरा सी भी कमी पाई गई तो उसके खिलाफ सीधे बर्खास्तगी की कार्रवाई होगी, वहीं उन्होंने सुरक्षा व्यवस्था को लेकर निर्देश दिए कि इस बार 15 से 20 फीसदी महिला कावडियों की संख्या रहेगी इसलिए कावड़ यात्रा में महिला पुलिसकर्मियों को भी लगाया गया है। कावड़ के दौरान शिविर में सुरक्षा रखने के निर्देश दिए गए हैं।
    आगामी 28 जुलाई से प्रारम्भ होेने वाले श्रावण मास में होने वाली कांवड़ यात्रा में शिव भक्त कांवड़ियों पर हैलीकाॅप्टर से पुष्पवर्षा होगी, हैलीकाॅप्टर ड्रोन व सीसीटीवी कैमरों से निगरानी, वाॅच टावर लगेंगे, कावंड़ मार्ग पर एलईडी लाइटों से प्रकाश व्यवस्था होगी, कांवड़ मार्ग की शराब व मीट की दुकाने बंद होगी, महिला कांवड़ियों के लिए विशेष व्यवस्था, प्रत्येक जनपद में एकीकृत कन्ट्रोल रूम स्थापित होंगे, साथ ही व्हाटस ऐप ग्रुप बनाकर सूचनाओं को आदान प्रदान किया जाएगा, 28 जुलाई सेे 02 अगस्त तक एनएच-58 एकल मार्ग व 03 से 09 अगस्त तक पूर्ण बंद होगा।
    प्लास्टिक मुक्त कांवड़ यात्रा के हांेगे प्रयास।
    जनपद मेरठ के आयुक्त सभागार में आगामी कांवड़ यात्रा के सम्बंध में अन्र्तराज्यीय समन्वय व मेरठ, सहारनपुर व मुरादाबाद मण्डलों में कानून एवं शान्ति व्यवस्था एवं अन्य तैयारियों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रमुख सचिव गृह अरविन्द कुमार व पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह उत्तर प्रदेश शासन ने यह जानकारी दी व इस सम्बंध में अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये। प्रमुख सचिव गृह ने अधिकारियों से कहा कि कावंड़ यात्रा के दौरान अधिकारी व कर्मचारी अपना आचरण व व्यवहार ठीक रखें तथा कांवड़ियों का मार्ग सुगम, सुविधाजनक व सहज बनायें। उन्होंने कहा कि सुरक्षा के साथ-साथ सतर्कता व स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।उन्होंने अधिकारियों को वाॅच टाॅवर लगाने, ड्रोन से निगरानी करने, पिछली गलतियों को ध्यान में रखकर कार्य करने ताकि दुर्घटना रहित कांवड़ यात्रा सम्पन्न हो सके।
    उन्होंने थानों में शान्ति समिति की बैठके कराने, कांवड़ समितियों की बैठक कर क्या करें क्या न करें को भली प्रकार समझाने, कांवड़ मार्ग पर विशेषकर मुजफ्फरनगर, मेरठ व गाजियाबाद में जिला पंचायत या अन्य मदों से एलईडी की पथ प्रकाश व्यवस्था सुनिश्चित करने, मिश्रित आबादी वाले क्षेत्रों में विशेष ध्यान देने, कांवड़ मार्ग पर शराब व मीट की दुकाने बंद करने, अफवाओं को गम्भीरता पूर्वक लेकर अफवाह फैलाने वालों से सख्ती से निपटने, डीजे को निर्धारित डेसीबल पर ही बजे यह सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया।
    प्रमुख सचिव गृह ने कहा कि महिला कावंड़ियों की संख्या 15 से 20 प्रतिशत तक आंकी गयी है तथा उनके लिए शिविर आदि जगहों पर अलग से शौचालय व स्नान गृह बनाया जाए, आवारा पशुओं को पकड़ने के लिए टीम बनायी जाए तथा 31 जुलाई से पूर्व सभी पीआरवी वैन को जीपीएस युक्त कर लिया जाए, साथही प्रत्येक 08 किमी पर एक पीआरवी लगायी जाए तथा यदि कोई घटना हो जाती है तो घटना स्थल पर पहंुचने का समय कम से कम हो यह सुनिश्चित करें।
    उन्होंने सूचना तंत्र को मजबूत बनाने व व्हाटस ऐप ग्रुप बनाकर सूचनाओं का आदान प्रदान करने के लिए निर्देशित किया साथ ही कन्ट्रोल रूम में पंडाल के शिविर संचालकों, सेवकों व अधिकारियों का नम्बर रखने के लिए कहा तथा रात्रि में कोई भी कावंडियों ट्रक आदि के नीचे न सोंये यह भी सुनिश्चित करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि अगले वर्ष तक कावंड़ मार्ग की दोनो पटरियां बन जायें ताकि नेशनल हाईवे पर ट्रैफिक का लोड कम हो।
    उन्होंने निजी, सरकारी अस्पतालों व नर्सिग होम में बेड आरक्षित करने तथा घायल को 108 एम्बुलेंस या अन्य साधन से निकटवर्ती प्राईवेट या सरकारी अगस्पताल में ले जाकर उसका इलाज कराने के लिए निर्देशित किया। उन्होंने विद्युत विभाग के अधिकारियों को जर्जर तारों को बदलने, ढीले तारों को बांधने, शिविर संचालकों को अस्थाई कनेक्शन देने, निर्बाध विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करने, खम्बों पर करंट न बहे इसको करने के लिए निर्देशित किया।
    उन्होंने परिवहन विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि कांवड़ मार्ग के अन्तिम दिनों में अतिरिक्त बसों की व्यवस्था करें तथा रोडवेज के ड्राइवरों की काउंसलिंग कर यह सुनिश्चित करें कि ड्राइवर शराब पीकर व ओवर स्पीड से गाड़ी न चलायें। उन्होंने खाद्य सुरक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया कि वह शिविरों व ढाबों में मिलने वाले खाद्य पदार्थो की नियमित जांच करें तथा सुनिश्चित करें कि ढाबों पर रेट लिस्ट प्रदर्शित हो।
    उन्होंने निगम अधिकारियों को निर्देशित किया कि मन्दिरों के आस पास सफाई, जलापूर्ति की व्यवस्था व आवारा पशुओं को पकड़ने की व्यवस्था हो। उन्होंने प्राईवेट गोताखोरों की भी व्यवस्था करने के लिए निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने गत दिनों आहुत बैठक में प्लास्टिक मुक्त कांवड़ यात्रा कराने के लिए शिविर संचालकों व ढाबा संचालकों को प्रेरित करने के लिए कहा है।
    उन्होंने अच्छे कार्यो को टवीटर आदि सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचार करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि कांवड़ियों के पास आईडी कार्ड हो यह सुनिश्चित करें। उन्होंने सोशल मीडिया पर क्या करें क्या न करें का प्रचार करने के लिए भी कहा। उन्होंने कहा कि कावंड़ यात्रा के दौरान हाॅकी तलवार व बैट साथ लेकर चलने की अनुमति नहीं होगी। उन्होंने वन विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि वह झाड़ियों, पेड़ों की टहनियों व गूलर के पेड़ों की छटाई आवश्यक रूप से करायें व सर्तकता के दृष्टिगत लाल झण्डी लगवायें तथा आंधी बारिश में पेड़ गिरने पर तत्काल हटवाना सुनिश्चित करें।
    पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने कहा कि सुरक्षा की माकूल व्यवस्था रहेगी तथा जनपदों को पीसीसी व आरएएफ भी दी जाएगी। उन्होनंे कहा कि हाईवे पर कटस बंद किये जायें तथा पेट्रोल पम्प के पास शिविर न लगे यह सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि थानों, कांवड़ सेवा शिविरों व पीआरवी गाड़ियों में अतिरिक्त कावंड़ व गंगाजल की व्यवस्था की जाए ताकि यदि किसी कावड़िये की कांवड़ खण्डित हो जाती है तो उसको तत्काल अन्य कांवड़ व गंगाजल उपलब्ध हो सके तथा उसका यात्रा सफल हो सके।
    उन्होंने कहा कि प्रत्येक थानों में स्वैच्छिक कार्यकर्ताओं की संख्या में बढोत्तरी की जाए तथा उन्हें कार्य भी आवंटित किये जायें। उन्होंने कहा प्रत्येक विभाग अन्य विभाग से समन्वय कर अपना कन्टीजेन्सी प्लान अवश्य बनायें तथा उसके अनुरूप कार्य भी करें। उन्होंने कहा कि हमें अपना व्यवहार ठीक रखना चाहिए तथा सर्मपण भाव से कार्य भी करना चाहिए।
    एडीजी मेरठ जोन प्रशान्त कुमार ने बताया कि 28 जुलाई से श्रावण मास प्रारम्भ हो रहा है तथा 24 जुलाई से श्रद्धालु हरिद्वार को प्रस्थान करना प्रारम्भ कर देंगे। आगामी 09 अगस्त को श्रावण शिवरात्रि का पर्व मनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि जोन मं 67 वाॅच टावर लगेंगे व 444 मिश्रित आबादी वाले क्षेत्र है, जिसमें से 48 मेरठ में है। उन्होंने बताया कि जोन के जनपदों में 03 व 04 अगस्त की मध्य रात्रि से रूट डायवर्जन रहेगा तथा 28 जुलाई से 02 अगस्त तक नेशनल हाईवे 58 एकल मार्ग तथा 03 से 09 अगस्त तक पूर्ण बंद रहेगा। उन्होंने बताया कि कटस को बंद कराया जाएगा।
    आयुक्त मेरठ अनीता सी मेश्राम ने कहा कि एक साफ्टवेयर बनाया जा रहा है जिसमें गूगल मैप पर जियो मैपिंग की जा रही है जिससे हाॅस्पिटल, दुकाने, शिविर, ढाबे, मैडिकल स्टोर आदि देखे जा सकेेगे तथा उस क्षेत्र से सम्बंधित एसडीएम, थानाध्यक्ष, शिविर संचालक व निजी व सरकारी अस्पतालों के नम्बर होंगे। उन्होंने बताया कि यह साॅफटवेयर अधिकारियों को दे दिया जाएगा जिसकों वह अपने मोबाइल से संचालित कर सकेंगे, इससे कावड़ यात्रा का सफल बनाने में सहायता मिलेगी।
    इस अवसर पर मण्डलायुक्त मुरादाबाद, सहारनपुर, डीआईजी मेरठ, एसएसपी हरिद्वार, एसपी यमुनानगर, सहित सभी जिलाधिकारियों एवं पुलिस अधिकारियों ने अपने अपने जिले का प्रस्तुतिकरण दिया। इस अवसर पर मण्डलायुक्त सहारनपुर चन्द्र प्रकाश त्रिपाठी, मुरादाबाद अनिल राज कुमार, एडीजी उत्तराखण्ड, डीआईजी मुरादाबाद, जिलाधिकारी मेरठ अनिल ढींगरा, एसएसपी मेरठ राजेश कुमार पाण्डेय, एसएसपी हरिद्वार, एसपी यमुनानगर, सहित तीनों मण्डलों के जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक व अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।